Thelokjan

site logo

स्लिपडिस्क से ग्रसित इण्डियन आर्मी के मरीज का आधुनिक डीकम्प्रेशन मशीन द्वारा डाॅ अमित मिश्रा ने किया सफलता पूर्वक इलाज

उत्तर प्रदेश | कानपूर के खलासी लाइन स्थित टच एण्ड क्योर फिजियोथिरेपी क्लीनिक में इण्डियन आर्मी में अपनीसेवाएं दे रहे नरेश कुमार अग्निहोत्री जी का कानपुर में पहली व एकमात्र उपलब्ध डीकम्प्रेशन ट्रैक्शन मशीन द्वारा सफलता पूर्वक इलाज सम्भव हुआ। टच एण्ड क्योर फिजियोथिरेपी क्लीनिक के डायरेक्टर व फिजियो चीफ डाॅ. अमित मिश्रा ने बताया कि नरेश जी स्लिपडिस्क से ग्रसित थे। जिसके कारण उनको कमर व पैरों में झनझनाहट के साथदर्द की समस्या थी व बैठने और दस कदम भी चलने में काफी दर्द था। जिससे वह अपनी आर्मी की ड्यूटी करनेमें असमर्थ थे। काफी समय तक दवाईयां खाने व इलाज करने पर भी आराम नही मिला, फिर किसी के बताने पर डाॅ. अमित को दिखाया जिन्होनें उनको डीकम्प्रेशन ट्रैक्शन मशीन, स्पाइनल मोबिलाइजेशन व इलैक्ट्रोथिरेपी द्वारा ठीक किया व जीवन शैली में कुछ एतिहात की सलाहदी। जिससे की नरेश जी वापस अपनी आर्मी की ड्यूटी ज्वाइन कर पायें।

ड्यूटी ज्वाइन कर के वहां से फोन कर डाॅ. अमित मिश्रा व उनकी टीम को धन्यवाद दिया।

डाॅ. अमित मिश्रा ने बताया आज के समय की बदलती जीवन शैली जिसमें डिजिटल टेक्नोलॉजी का उपयोग हर क्षेत्र में बढ़ गया है। चाहे वह वर्क फ्राॅम होम व चाहे क्लास फ्राॅम होम हो, खराब सड़के, मोटापे व गलत जीवन शैली के चलते कमर में दर्द, गर्दन में दर्द, गर्दन से हाथों तक दर्द, स्लिपडिस्क, सियाटिका, चक्कर आना, कमर से नीचे पैरों तक दर्द आना, झनझनाहट, सुन्न पन आना, आॅर्थराइटिस घुटने के दर्द व कंधे के दर्द जाम होने इन सभी शारीरिक समस्याओं से निजात पाने में फिजियोथेरेपी चिकित्सा का योगदान काफी बढ़ गया है।

Must Read

Latest News

2017 से पहले जिन विद्यालयों में बच्चे आने से डरते थे, 6 वर्ष में वहां 55 से 60 लाख अतिरिक्त बच्चों की बढ़ी है संख्याः सीएम योगी

लखनऊ। 2017 से पहले बेसिक शिक्षा स्कूलों में बच्चे आने से डरते थे, लोगों में उत्साह नहीं था। स्कूलों में पेड़ों की जगह झाड़ियां जमा

फिजा के सदस्यों को पूरे यूपी के फिजियोथिरेपिस्ट देंगे मुफ्त परामर्श

द इंडियन एसोसिएशन ऑफ फिजियोथिरेपी और फेडरेशन ऑफ इंडियन जर्नलिस्ट्स एंड एक्टिविस्ट्स (फिजा) के संयुक्त तत्वावधान में रविवार को साकेत नगर स्थित एक होटल में

उत्तर प्रदेश- AI के जरिए बेसिक के बच्चे सीख रहे कविताएं एवं पहाड़े, शिवेंद्र ने तैयार किए AI शिक्षक

हरदोई। टेक्नोलॉजी जैसे जैसे एडवांस होती जा रही है, वैसे वैसे लोग भी इसका जमकर फायदा उठा रहे है। जहां पहले सरकारी स्कूलों की शिक्षा