Thelokjan

site logo

Odisha

Monsoon News : लखनऊ-कानपुर समेत 20 जिलों में बारिश का येलो अलर्ट, 30-35 किमी/घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी

उत्तर प्रदेश । यूपी में बिपरजॉय का असर दिखने लगा है। सोमवार को गाजियाबाद, नोएडा और मेरठ में तेज बारिश हुई। लखनऊ में सुबह और कानपुर देहात में दोपहर में बूंदाबांदी हुई। जबकि कई शहरों में बादल छाए हैं। मौसम विभाग ने दोपहर 3:45 बजे लखनऊ समेत 20 जिलों में बारिश का येलो अलर्ट जारी किया है। 30-35 किमी/घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। बुलंदशहर, मुरादाबाद, कन्नौज, कानपुर, कानपुर देहात, मैनपुरी, हरदोई, उन्नाव फर्रुखाबाद, रायबरेली, अमेठी, गौतमबुद्धनगर, सीतापुर, लखीमपुरखीरी, बदायूं, शाहजहांपुर, औरैया, महोबा और बांदा में बारिश की संभावना है। पूर्वी यूपी की बात करें, तो कई जिलों में लोगों को आज भी हीटवेव का सामना करना पड़ेगा।

Cyclone Biporjoy ने लिया खतरनाक रूप, फ़िलहाल गुजरात में स्थित, पहुँच सकता है राजस्थान, देखिये EXCLUSIVE VISUALS

Cyclone Biparjoy Updates: चक्रवाती तूफान बिपोर्जॉय गुजरात में एंट्री ले चुका है. इसके चलते यहां के सौराष्ट्र और कच्छ के तटीय इलाकों में इसका लैंडफॉल भी शुरू हो गया. चक्रवात के चलते गुजरात के कई इलाकों में झमाझम बारिश हो रही है और 100 से 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं. बिपोर्जॉय गुजरात से अब आगे बढ़ने की फिराक में है. ऐसा माना जा रहा है कि बिपोर्जॉय तूफान 16 जून को राजस्थान में अपना कहर दिखा सकता है. इसके चलते मौसम विभाग ने पूरे राजस्थान में रेड अलर्ट जारी कर दिया है. मौसम विभाग की मानें तो आज बाड़मेर, जालौर, जैसलमेर और जोधपुर समेत आसपास के कई क्षेत्रों में झमाझम बारिश और तूफान की आशंकाएं हैं. कच्छ पर स्थित चक्रवाती तूफान (Cyclonic Storm) “बिपारजॉय” सौराष्ट्र- कच्छ पर स्थित प्रचण्ड चक्रवाती तूफान (Severe Cyclonic Storm) “बिपारजॉय” पिछले 6 घंटों के दौरान पूर्व-उत्तरपूर्व दिशा मे 10 किमी प्रति घंटे की गति करते हुए एक चक्रवाती तूफान में कमजोर हो गया और आज 16 जून 2023 को भारतीय समयानुसार 08:30 बजे, सौराष्ट्र- कच्छ पर लगभग 23.4°N अक्षांश और 69.5°E देशांतर के पास, भुज से 30 किमी पश्चिम-उत्तर-पश्चिम में स्थित था। इसके लगभग पूर्व-उत्तरपूर्व की ओर बढ़ने और आज, 16 जून की शाम के आसपास एक गहन अवदाब (deep depression) में कमजोर होने की संभावना है। गुजरात को पूरी रात झकझोरने वाले बिपरजॉय चक्रवात की तीव्रता धीरे-धीरे कम हो रही है। आज दोपहर 12 बजे के करीब बिपरजॉय भुज से 40 किमी उत्तर में था। गुजरात में मौसम विभाग की वैज्ञानिक मनोरमा मोहंती ने बताया है कि सुबह की तुलना में दोपहर बाद चक्रवात की तीव्रता काफी कम हुई है। शाम तक और तीव्रता कम हो जाएगी, उसका रास्ता पूर्वोत्तर दिशा में कच्छ के ऊपर है। उत्तर गुजरात में इसका प्रभाव दिखेगा।

Very Severe Cyclonic Storm “Biparjoy” over Northeast Arabian Sea : Cyclone Warning for Saurashtra & Kutch Coasts

New Delhi | The Very Severe Cyclonic Storm “Biparjoy” (pronounced as “Biporjoy”) over Northeast Arabian Sea moved nearly northwards with a speed of 3 kmph during past 6-hours and lay centered at 0530 hours IST of today, the 14th June, 2023 over the same region near latitude 21.9°N and longitude 66.3°E, about 280 km west-southwest of Jakhau Port (Gujarat), 290 km west-southwest of Devbhumi Dwarka, 300 km west-southwest of Naliya, 350 km west-northwest of Porbandar, and 340 km south-southwest of Karachi (Pakistan). It is very likely to move nearly northeastwards and cross Saurashtra & Kutch and adjoining Pakistan coasts between Mandvi (Gujarat) and Karachi (Pakistan) near Jakhau Port (Gujarat) by evening of 15th June as a very severe cyclonic storm with maximum sustained wind speed of 125-135 kmph gusting to 150 kmph.  

BSF GUJARAT GEARS UP TO FACE ‘BIPARJOY’ CHALLENGE

Gujarat | In view of advancing severe cyclonic storm ‘Biparjoy’ BSF has readied itself to overcome the challenges posed by the effects of the cyclone. Biparjoy is expected to make a landfall near Jakhau coast on evening of 15th June and will traverse all along the Rann upto Rajasthan thereafter. Sh Ravi Gandhi, IG BSF Gujarat visited the coastal areas of Bhuj to oversee the measures being adopted to mitigate the devastating effects posed by the cyclone as well as took stock of readiness to deal with any contingency. The cyclone is predicted to pass through all along the Indo-Pak international border. Besides guarding the international border, BSF have also swiftly mobilised requisite resources for rescue operations. Coordination with civil authorities has been established and has also ensured provision of all necessary support to Civil administration and local population. About 50 villagers of Gunao village located close to Jakhau coast have been shifted to Gunao outpost of BSF.

गुजरात में Cyclone Biparjoy को लेकर Orange Alert जारी, गृह मंत्री अमित शाह ने की बैठक

नई दिल्ली | चक्रवाती तूफान ‘बिपरजॉय’ (Cyclone Biparjoy) कमजोर पड़ता दिख रहा है। मौसम विभाग ने ‘बिपरजॉय’ को ‘अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान’ (ESCS) से डाउनग्रेड कर ‘बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान’ (VSCS) घोषित किया है। हालांकि गुजरात में इसको लेकर ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। तटीय इलाकों को खाली कराया जा रहा है। बंदरगाहों को बंद कर दिया गया है। इस चक्रवाती तूफान के 15 जून की शाम तक गुजरात के सौराष्ट्र और कच्छ से गुजरने की संभावना है। ‘बिपरजॉय’ पोरबंदर से है 300 KM दूर मौसम विभाग के मुताबिक, ‘बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान’ (VSCS) ‘बिपरजॉय’ आज सुबह साढ़े 5 बजे पोरबंदर से 300 किमी पश्चिम दक्षिण-पश्चिम, देवभूमि द्वारका से 290 किमी दक्षिण पश्चिम, जखाऊ से 340 किमी दक्षिण दक्षिण-पश्चिम और नालिया से 350 किमी दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में बना हुआ है। इस चक्रवाती तूफान भारत की ओर बढ़ते साथ ही, इसका अरब सागर से सटे राज्यों- गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, केरल) असर दिखाना शुरू हो गया है। केरल, कर्नाटक और गोवा के बाद महाराष्ट्र के मुंबई समेत कई शहरों में बारिश और तेज रफ्तार से तूफानी हवाएं रही हैं। हाई टाइड के बीच समंदर में ऊंची लहरें उठ रही हैं। अमित शाह की समीक्षा बैठक केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह मंगलवार, 13 जून को दिल्ली में चक्रवात ‘बिपरजॉय’ को लेकर समीक्षा बैठक करेंगे। गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल और प्रभावित होने वाले 8 जिलों के सांसद भी बैठक में भाग लेंगे। बताते चलें कि, इससे पहले तूफान की गंभीरता को देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने सोमवार को तैयारियों की समीक्षा की थी। गुजरात में ऑरेंज अलर्ट जारी ‘बिपरजॉय’ को लेकर मौसम विभाग ने गुजरात में ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। IMD ने गुजरात के कच्छ, देवभूमि द्वारका, पोरबंदर, जामनगर, राजकोट, जूनागढ़ और मोरबी जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इसके साथ ही मछुआरों, ऑफशोर और ऑनशोर उद्योगों के लिए भी चेतावनी जारी की गई है। 15 जून तक पूर्वमध्य, पश्चिम मध्य अरब सागर और पूर्वोत्तर अरब सागर में मछली पकड़ने पर रोक लगा दी गई है। ‘गुजरात सरकार NDRF और SDRF की टीमों को तटीय इलाकों में तैनात कर रही है। वहीं, प्रभावित होने वाले संभावित राज्यों के निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जा रहा है। केंद्रीय मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने जानकारी दी कि कच्छ में अब तक 8000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। वहीं 1.5-2 लाख छोटे-बड़े जानवर को भी सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट किया गया है।

Kanpur Weather: सुबह पड़ रही है दोपहर जैसी गर्मी , जलवायु परिवर्तन बड़ा कारण

कानपुर । जलवायु परिवर्तन ने गर्मियों में शहर वासियों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं । तीन-चार साल पहले जितना तापमान दोपहर 12 से दर्ज किया जाता था, अब सुबह 10 बजे ही उतनी गर्मी पड़ने लगी है। इस तरह तापमान के चरम में दो घंटे का इजाफा हो गया है। सीएसए के मौसम विभाग प्रमुख डॉ. एसएन पांडेय के अनुसार तीन साल पहले इसकी शुरुआत हुई थी। अब हर वर्ष तापमान में बढ़ोतरी होती जा रही है। तीन साल में सुबह 10 से 11 बजे के बीच के तापमान में करीब छह डिग्री की बढ़त दर्ज की गई है। चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (सीएसए) के मौसम विभाग के अनुसार सुबह 10 से 11 बजे के बीच तापमान 38 डिग्री सेल्सियस से ऊपर पहुंच रहा है, जबकि इसके बाद के तीन घंटे में पारा तीन से चार डिग्री ही बढ़ता है। वहीं तीन साल पहले सुबह 10 से 11 बजे के बीच अधिकतम तापमान 32 डिग्री तक ही रिकॉर्ड किया जाता रहा है। डॉ. एसएन पांडेय ने बताया कि अध्ययन में मौसम में आने वाले समय में और भी बदलाव देखने को मिल सकते हैं, जिसमें गर्मी की तरह सर्दी और कम समय में ज्यादा बारिश होने की बात कही जा रही है। इस तरह बढ़ा जून में सुबह से औसत तापमान – वर्ष 2021 से पहले : सुबह 10 से 11 बजे 32.2 – वर्ष 2021 में : सुबह 10 से 11 बजे 35.8 – वर्ष 2022 में : सुबह 10 से 11 बजे 36.5 – वर्ष 2023 में : सुबह 10 से 11 बजे 38.5

Cyclone Biparjoy : IMD issues alert for Saurashtra & Kutch Coast

Saurashtra | The Indian Meteorological Department has issued a warning regarding the extremely severe cyclonic storm “Biparjoy” over the east-central Arabian Sea. The storm is currently moving northwards with a speed of 5 kmph and is expected to cross the Saurashtra and Kutch regions, as well as the adjoining coast of Pakistan, by noon on the 15th of June. India Meteorological Department issued a Cyclone alert for Saurashtra & Kutch Coast. It is very likely to move nearly northward till 14th morning, then move north-northeastwards and cross Saurashtra & Kutch and adjoining Pakistan coasts between Mandvi (Gujarat) and Karachi (Pakistan) by noon of 15th June as a very severe cyclonic storm with maximum sustained wind speed of 125-135 kmph gusting to 150 kmph. The Indian Meteorological Department has issued an alert for the districts of Kutch, Jamnagar, Morbi, Rajkot, Junagadh, and Porbandar in Gujarat. The alert status includes an Orange alert for the 14th of June and a Red alert for the 15th of June. Indian Coast Guard Region (Northwest) has initiated outreach to advise fishing community, mariners & stakeholders of Gujarat, Daman & Diu to take necessary precautions & safety measures. Indian Coast Guard units are sending regular advisories to ships at sea.

केदारनाथ में फिर आया एवलांच, 2013 को यादकर सिहर उठे लोग

Kedarnath | मंदिर के ठीक पीछे की पहाड़ियों में एवलॉन्च का वीडियो सामने आया है। हालांकि अभी तक किसी भी तरह के जानमाल के नुकसान की कोई खबर नहीं है। जिस वक्त एवलॉन्च आया उस वक्त केदारनाथ धाम में कई श्रद्धालु मौजूद थे। एवलॉन्च का नजारा देखकर सभी दंग रह गए। आपको बता दें कि इससे पहले साल 2022 में भी केदारनाथ के पास दो एवलांच आए थे। चारधाम यात्रा अपने पूरे शबाब पर है। इस बीच एवलांच आने से भूगर्भशास्त्रियों और प्रशासन के माथे पर चिंता की लकीरें आना स्वाभाविक ही है। देखिए वीडियो  

Monsoon arrives in India, Further Advance of Southwest Monsoon with Onset of Monsoon over Kerala

 Southwest Monsoon has advanced into remaining parts of south Arabian Sea and some parts of central Arabian Sea, entire Lakshadweep area, most parts of Kerala, most parts of south Tamil Nadu, remaining parts of Comorin area, Gulf of Mannar and some more parts of southwest, central and northeast Bay of Bengal today, the 08th June 2023. Thus, Southwest Monsoon has set in over Kerala today, the 08th June, 2023 against the normal date of 01st June.  During past 24 hours, clouding has increased over Southeast Arabian sea with Outgoing Longwave Radiation(OLR) being <200 watts/m^2. The depth of westerly winds over Southeast Arabian sea extends upto middle tropospheric levels. The strength of Westerly winds in the lower levels has increased and is about 19 knots. There has been widespread rainfall over Kerala during past 24 hours. Considering all the above satisfied conditions, Southwest Monsoon has set in over Kerala today, the 08th June, 2023.  The Northern Limit of Monsoon (NLM) now passes through lat. 13.5°N/ Long. 55°E, lat. 14.0°N/ Long. 60°E, lat. 13.5°N/ Long. 65°E, lat. 13°N/ Long. 70°E, Cannur, Kodaikanal, Adirampattinam, lat. 12.0°N/ Long. 83.0°E, 16.0°N/88.0°E, 18.5°N/90.0°E, 22.0°N/93.0°E.  Conditions are favourable for further advance of Southwest monsoon into some more parts of central Arabian Sea, remaining parts of Kerala, some more parts of Tamil Nadu, some parts of Karnataka and some more parts of southwest, Central and northeast Bay of Bengal and some parts of northeastern states during next 48 hours.

तेंदुए की दस्तक से लोग भयभीत, प्रशासनिक अमला ने ली लोगो से जानकारी

काशीपुर | काशीपुर नगर क्षेत्र समेत ग्रामीण क्षेत्रों में तेंदुए की दस्तक से लोग भयभीत नजर आ रहे हैं। जिसको लेकर स्थानीय प्रशासन और वन विभाग की टीम क्षेत्र में जाकर तेंदुए की दस्तक को लेकर लोगों से जानकारी जुटाने में लगी हुई है। बता दें कि मामला शहर के बीच नौ गजा पीर मानपुर रोड का है जहां पर एक बकरी चरागा के घर के पास तेंदुआ की धमक देखी गई , तेंदुए की दस्तक से लोगों में दहशत का माहौल पैदा हो गया। इसी दौरान तेंदुए ने एक बकरी के बच्चे को दबोच लिया, जिसके स्वामी ने तुरंत बच्चे को छुड़ाने के लिए अपनी जान की परवाह किए बगैर बकरी के बच्चे को तेंदुए से लड़ते हुए उसे मुक्त करा लिया। बताया जा रहा है कि छीना झपटी में बकरी मालिक काफी घायल हो गया, जिसकी सूचना तुरंत वन विभाग को दी, वन विभाग ने वहां पर कामविंग कर तेंदुए को तलाशने का भरसक प्रयास किया, लेकिन सफलता हाथ नहीं लगी। युसूफ अली तहसीलदार काशीपुर वही कुछ दिन पूर्व चैती मंदिर रोड पर भी तेंदुए की चहल कदमी दिखने से लोग भयभीत हैं, इसी के चलते तहसील प्रशासन और वन विभाग की टीम ने क्षेत्र में भ्रमण कर तेंदुए को तलाशने का प्रयास किया लेकिन इस बार भी सफलता हाथ नहीं लगी। तहसीलदार युसूफ अली ने कहां है कि वन विभाग को निर्देशित कर दिया गया है जहां भी तेंदुए की दस्तक नजर आएगी वहां पिंजरे लगाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि लोग दहशत में ना आए जल्द ही तेंदुए को पिंजरे में कैद कर लिया जाएगा। देवेंद्र सिंह, क्षेत्रीय वन अधिकारी काशीपुर

Videos

Must Read

MP News:संस्कृति मंत्री लोधी ने केंद्रीय मंत्री शेखावत से की मुलाकात

संस्कृति, पर्यटन धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री धर्मेंद्र भाव सिंह लोधी ने नई दिल्ली में केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री श्री गजेंद्र सिंह शेखावत से मुलाकात की। उन्होंने श्री शेखावत से मध्यप्रदेश में संस्कृति एवं पर्यटन के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी। श्री लोधी ने केंद्रीय मंत्री से संगीत सम्राट तानसेन का शताब्दी समारोह राष्ट्रीय स्तर पर पूरे देश में मनाने का आग्रह किया। मंत्री श्री लोधी ने कहा कि संगीत सम्राट तानसेन के नाम पर शास्त्रीय संगीत का 100 वर्षों से निरन्तर आयोजित होने वाला देश का “एकमात्र समारोह” तानसेन समारोह है। संगीत सम्राट तानसेन के ग्वालियर स्थित समाधि स्थल पर इसका आयोजन किया जाता है। ग्वालियर की सुदीर्घ संगीत परम्परा को देखते हुए ही यूनेस्को ने इसे “सिटी ऑफ म्यूजिक” घोषित किया है। उन्होंने कहा कि संगीत सम्राट तानसेन सिर्फ मध्यप्रदेश ही नहीं, अपितु सम्पूर्ण राष्ट्र के हैं और उनकी ख्याति सारे विश्व में है। साथ ही शास्त्रीय संगीत की ध्रुपद शैली भी सम्पूर्ण विश्व में व्याप्त है। इस दृष्टि से तानसेन शताब्दी समारोह को न सिर्फ मध्यप्रदेश, बल्कि पूरा राष्ट्र मनाये। मंत्री लोधी ने प्रस्ताव देते हुए कहा कि भारत सरकार की संगीत नाटक अकादमी के माध्यम से पूर्वरंग श्रृंखला के अंतर्गत ‘तानसेन समारोह’ का आयोजन देश के हर राज्य में आयोजित किया जावे, जिसमें मध्यप्रदेश शासन, संस्कृति विभाग सह आयोजक के रुप में सम्मिलित हो सकेगा। इन कार्यक्रमों के अंतर्गत उत्कृष्ट शास्त्रीय संगीत केन्द्रित प्रस्तुतियाँ संयोजित किये जाने का अनुरोध है, जिससे मध्यप्रदेश के साथ-साथ अन्य राज्यों में भी तानसेन की ख्याति को विस्तारित किया जा सकेगा। संस्कृति मंत्री श्री लोधी 46वीं “विश्व धरोहर समिति” की बैठक में शामिल होने दिल्ली में मैजूद है। वर्ल्ड हेरिटेज कमेटी की यह बैठक भारत मंडपम में होगी , जिसमें देश और दुनिया के 3200 से अधिक प्रतिनिधि शामिल होंगे।

MP News:मुख्यमंत्री डॉ. यादव की पहल पर शिक्षण संस्थाओं में गुरू पूर्णिमा पर भव्य आयोजन

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव की पहल पर मध्यप्रदेश में गुरू पूर्णिमा को उत्साहपूर्वक मनाने की शुरूआत की गई है। उनके निर्देश के अनुसार सभी विद्यालयों और महाविद्यालयों में गुरूजनों और शिक्षकों का सम्मान किया गया और विद्यार्थियों ने आशीर्वाद लिया। शिक्षकों ने गुरू पूर्णिमा के महत्व एवं पारंपरिक गुरू-शिष्य संस्कृति पर प्रकाश डाला। विद्यालयों में “प्राचीन काल में प्रचलित गुरूकुल व्यवस्था एवं उसका भारतीय संस्कृति पर प्रभाव” विषय पर निबंध लेखन आयोजित किया गया। राज्य शासन द्वारा विश्व विद्यालयों में पूर्व से प्रचलित “कुलपति” नाम को परिवर्तित कर “कुल गुरू” किये जाने के निर्णय से विद्यार्थियों को अवगत करवाया गया। गुरू भविष्य गढ़ने का महत्वपूर्ण कार्य करते हैं स्कूल शिक्षा मंत्री श्री उदय प्रताप सिंह ने कहा है कि समाज में गुरू का स्थान सर्वप्रथम है। धार्मिक ग्रथों में तो यह भी कहा गया है कि गुरू इसलिए महत्वपूर्ण है, जो हमें सच्चे मार्ग और भगवान की शक्ति का ज्ञान कराते हैं। उन्होंने कहा कि राज्य शासन स्कूल शिक्षा में शिक्षकों की बेहतरी के लिये लगातार निर्णय ले रही है। स्कूल जाने वाले बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिल सके इसके लिये प्रदेश में पीएम श्री और सीएम राइज स्कूल लगातार खोले जा रहे हैं। स्कूल शिक्षा मंत्री श्री सिंह नरसिंहपुर जिले के राजमार्ग स्थित रूकमणी देवी पब्लिक स्कूल में आयोजित गुरू पूर्णिमा उत्सव को संबोधित कर रहे थे। स्कूल शिक्षा मंत्री ने कहा कि प्रत्येक नागरिक का कर्त्तव्य है कि वह बच्चों को अच्छे संस्कार दे। जब इन संस्कारों के साथ बच्चे स्कूलों में शिक्षा गृहण करेंगे, तो वे आगे चलकर जिम्मेदार नागरिक के साथ-साथ अपने कर्त्तव्यों का निर्वहन कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि गुरू की शिक्षा से ही देश और प्रदेश की अनेक प्रतिभाएं सभी क्षेत्रों में उललेखनीय प्रदर्शन कर रही हैं। प्रत्येक सफल व्यक्ति के पीछे उसके गुरू द्वारा दी गई शिक्षा अनमोल होती है। स्कूल शिक्षा मंत्री ने शिक्षकों, पालकों और छात्रों से सीधा संवाद भी किया। स्कूल शिक्षा मंत्री शनिवार को जिले के गाडरवाड़ा के पीएम श्री स्कूल और नर्मदापुरम जिले के बनखेड़ी में रावतपुरा इंटरनेशनल स्कूल एवं भाऊ साहब भुस्कटे स्मृति लोक न्यास द्वारा संचालित सैनिक स्कूल के गुरू पूर्णिमा समारोह में शामिल हुए। स्कूल शिक्षा मंत्री ने इन शालाओं का कक्षाओं और साइंस लैब का निरीक्षण भी किया। उन्होंने कहा कि स्कूल में शिक्षा की गुणवत्ता में बढ़ोत्तरी के लिये राज्य शासन हरसंभव संसाधन उपलब्ध कराएगा। समारोह के दौरान छात्रों ने स्कूल शिक्षा मंत्री से लोक रूचि से संबंधित प्रश्न भी पूछे और जवाब दिया गया।  भारतीय ज्ञान की उपलब्धि जो विश्व भर में अनुसरणीय उच्च शिक्षा, तकनीकी शिक्षा एवं आयुष मंत्री श्री इन्दर सिंह परमार ने शाजापुर जिले के शुजालपुर स्थित शासकीय जेएनएस महाविद्यालय में आयोजित गुरु पूर्णिमा उत्सव में कहा कि शिक्षा के माध्यम से पुरातन से सीखकर नूतन की ओर आगे बढ़ते हुए विश्वमंच पर भारत को सिरमौर बनाना हमारा ध्येय है। इसके लिए भारतीय ज्ञान परम्परा को शिक्षा में पुनर्स्थापित कर आमूलचूल परिवर्तन जारी है। श्री परमार ने कहा कि दुनिया को भारत के ज्ञान पर गर्व है। जो देश अपने ही ज्ञान को समाप्त कर देता है, उसकी पहचान भी स्वतः समाप्त हो जायेगी।  उच्च शिक्षा मंत्री श्री परमार ने कहा कि भारतीय समाज का दृष्टिकोण विज्ञान पर आधारित दृष्टिकोण है। भारत की ज्ञान परम्परा पर पुनः अध्ययन एवं अनुसंधान करने की आवश्यकता है। श्री परमार ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने जब भारतीय परिप्रेक्ष्य में राष्ट्रीय शिक्षा नीति – 2020 को लागू किया, तब से देश भर में भारत की उपलब्धियों और उल्लेखनीय कार्यों पर गर्व का भाव जागृत हुआ है। अपनी भाषा, अपने ज्ञान, अपनी विरासत को पुनर्स्थापित करते हुए विश्वमंच पर विश्वगुरु के रूप में पुनः स्थापित होंगे। श्री परमार ने कहा कि युगानुकुल परिवर्तन करना हमारा व्यापक दृष्टिकोण है। “कण” की परिकल्पना भारतीय ऋषि कणाद ऋषि की अवधारणा थी। उसके बाद आधुनिक युग में अणु और परमाणु का विकास हुआ। विश्व को “शून्य” भारत ने दिया, तब जाकर विश्व में अंक गणना संभव हो सकी। भारत के महान अविष्कारक श्री आर्यभट्ट ने तथ्यों के अनुरूप “पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती है” के रूप में प्रमाणित किया। यह हमारे भारतीय ज्ञान की उपलब्धि है, जो विश्व भर में अनुसरणीय है।

MP News:पचमढ़ी मानसून मैराथन-हल्की फुहारों के बीच रनर्स ने लगाई दौड़

नर्मदापुरम जिले के हिल स्टेशन पचमढ़ी में मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड (एमपीटीबी) के सहयोग से ‘एडवेंचर एंड यू’ (के.ए. कनेक्ट) पचमढ़ी मानसून मैराथन का भव्य एवं सफल आयोजन किया गया। जिला प्रशासन नर्मदापुरम के सहयोग से आयोजित हुई मैराथन में देशभर से 1165 धावकों ने हिस्सा लिया और पचमढ़ी के प्राकृतिक सौंदर्य के बीच 42 किलोमीटर, 21 किलोमीटर, 10 किलोमीटर एवं 5 किलोमीटर श्रेणियों में दौड़ लगाई गई। मैराथन दौड़ की शुरुआत एमपीटी ग्लेनव्यू होटल से हुई। 42 किलोमीटर दौड़ सुबह 3 बजे शुरू हुई। शेष तीनों दौड़ सुबह 6 बजे शुरू की गई। जिसे टूरिज्म बोर्ड के ज्वाइंट डायरेक्टर डॉ.श्री संतोष कुमार श्रीवास्तव, डिप्टी डायरेक्टर श्री वीरेंद्र खंडेलवाल ने फ्लैगऑफ की। दौड़ में छः वर्ष के बच्चे से लेकर 82 वर्ष के बुजुर्ग ने हिस्सा लिया। नर्मदापुर की पूर्व कलेक्टर श्रीमती दास भी 21 किमी दौड़ में शामिल हुई। विजेताओं को ट्रॉफी एवं मैडल समापन के बाद एक समारोह में अतिथियों द्वारा विजेताओं को ट्रॉफी व मेडल दिए। मानसून मैराथन में देशभर से लोग शामिल हुए और सतपुड़ा की रानी पचमढ़ी में प्राकर्तिक सौंदर्य का आनंद लिया। 82 वर्ष के बुजुर्ग श्री मोहन लाल यादव, गोंदिया महाराष्ट्र को विशेष रूप से सम्मानित किया गया। सम्मान समारोह में पर्यटन विभाग के क्षेत्रीय प्रबंधक श्री ए.यू. खान, सहायक संचालक श्री के.के. सिंह, केए कनेक्ट से मितेश रामभिया भी विशेष रूप से मौजूद थे। विजेताओं की सूची 42 किलोमीटर (पुरुष) में प्रथम विजेता अंकित शर्मा। 42 किलोमीटर (महिला) में प्रथम विजेता प्रेम लता गुप्ता। 21 किलोमीटर (पुरुष) में प्रथम विजेता मोहित कोरे। 21 किलोमीटर (महिला) में प्रथम विजेता निधि तरारे। 10 किलोमीटर (पुरुष) में प्रथम विजेता विशाल कौशल। 10 किलोमीटर (महिला) में प्रथम विजेता रीता तरारे। 5 किलोमीटर (पुरुष) में प्रथम विजेता अमित प्रजापती। 5 किलोमीटर (महिला) में जयश्री भूरे प्रथम विजेता रही।

MP News:भारतीय संस्कृति में गुरूजनों का स्थान सर्वोच्च- मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है कि भारतीय संस्कृति में गुरुजनों का स्थान सर्वोच्च है। गुरू शिक्षा के साथ ही ज्ञान का प्रसार भी करते हैं। वे अपने शिष्यों को अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। गुरुजनों का सम्मान भारतीय परंपरा और संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है। गुरुजनों के सम्मान के लिए अब प्रदेश में हर वर्ष सभी स्कूल और कॉलेजों में गुरूपूर्णिमा का महापर्व मनाया जाएगा। विद्यार्थियों को गुरुओं की महत्ता बताई जाएगी। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि वे इस आयोजन से जुड़े और गुरुओं के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करें। मुख्यमंत्री डॉ. यादव आज इंदौर के देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के सभागृह में आयोजित गुरू पूर्णिमा के कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने महाभारत के अनेक प्रसंगों का उल्लेख करते हुए गुरू शिष्य परम्पराओं का महत्व बताया। उन्होंने कहा कि गुरू शिक्षा के साथ ज्ञान भी देते हैं। वे अन्याय एवं अधर्म से लड़ना सिखातें हैं। जीवन जीने की कला सिखाते और शिक्षा एवं ज्ञान का दान करते हैं। इस कार्य में वे अपने कष्टों को भी बाधा नहीं बनने देते हैं। गुरू का साथ मिलते ही शिष्य के जीवन में सकारात्मक बदलाव आता है और वह सफलता की ऊंचाइयों को प्राप्त करने लगता है। उन्होंने कहा कि गुरू-परम्परा समुचित मानवता को धन्य करने की परम्परा है। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने आचार्य सांदीपनि का विशेष रूप से उल्लेख करते हुए कहा कि गुरुजन राष्ट्रवादी सोच का प्रवाह अपने शिष्यों में करते हैं। आचार्य सांदीपनि इसका बेहतर उदाहरण है। आचार्य सांदीपनि ने अपने ज्ञान से राष्ट्र निर्माण और अपने राष्ट्र के प्रति समर्पण का भाव सिखाया है। गुरुओं का महत्व सबके के सामने आना चाहिए। इसके लिये हमने प्रदेश में हर वर्ष स्कूल और कॉलेजों में गुरू पूर्णिमा का महापर्व पूर्ण आस्था और श्रद्धा के साथ मनाने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि भारत देश को अपने ज्ञान के आधार पर ही विश्व गुरु का दर्जा मिला है। महर्षि पाणिनी संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय के पूर्व कुलगुरू श्री मिथिला प्रसाद त्रिपाठी ने कहा कि गुरुओं का जीवन में अक्षुण्ण महत्व है। गुरू अंतस के अंधकार को भी मिटाता है। गुरू अपना सब कुछ शिष्य को दे देता है। गुरू शिष्य में प्रतिबिंबित होते हैं। गुरू ज्ञान के साथ ही संस्कार एवं जीवन मूल्य भी सिखाते हैं। गुरुओं के महत्व को बताने के लिये राज्य शासन द्वारा हर वर्ष गुरू पूर्णिमा का महापर्व मनाये जाने का निर्णय सराहनीय है। अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा श्री के.सी. गुप्ता ने भारतीय परंपरा में गुरु शिष्य के संबंधों की महत्ता पर अपने विचार रखे। कार्यक्रम के प्रारंभ में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की कुलगुरू प्रो. रेणु जैन ने स्वागत भाषण दिया। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय सहित अन्य विश्वविद्यालयों के पूर्व कुलगुरूओं एवं शिक्षक गणों का सम्मान भी किया गया। साथ ही गुरू पूर्णिमा के अवसर पर आयोजित निबंध प्रतियोगिता में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थियों को भी सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री डॉ. यादव ने भारतीय गणित पर लिखित पुस्तकों का विमोचन भी किया। कार्यक्रम में उन्होंने मोढ़ी लिपि को देवनागरी लिपि में परिवर्तित करने, सॉफ्टवेयर तैयार करने वाली बालिका अंशिका जैन का सम्मान भी किया। गुरुजनों के बीच पहुंचे और पुष्प वर्षा कर सम्मान किया मुख्यमंत्री डॉ. यादव आज गुरू पूर्णिमा के अवसर पर देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे। डॉ. यादव मंच से उतरकर गुरुजनों के बीच पहुंचे। उन्होंने सभागृह में मौजूद पूर्व कुलगुरूओं एवं शिक्षकों का पुष्प वर्षा कर सम्मान किया। कार्यक्रम में जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, सांसद श्री शंकर लालवानी, महापौर श्री पुष्यमित्र भार्गव, विधायक सुश्री उषा ठाकुर, श्रीमती मालिनी गौड़, श्री मधु वर्मा तथा श्री गोलू शुक्ला, संभागायुक्त श्री दीपक सिंह, पुलिस कमिश्नर श्री राकेश गुप्ता, कलेक्टर श्री आशीष सिंह, श्री गौरव रणदिवे भी मौजूद थे।

CG News:मुख्यमंत्री ने पंगत में बैठकर भंडारा प्रसाद ग्रहण किया

मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय ने आज रायगढ़ जिले के बनोरा स्थित अघोर गुरु पीठ ब्रह्मनिष्ठालय में गुरु के दर्शन के पश्चात गुरु दर्शन के लिए आए सारे लोगों के बीच पंगत में बैठकर भंडारा प्रसाद ग्रहण किया । मुख्यमंत्री श्री विष्णु देव साय के साथ वित्त मंत्री श्री ओ. पी. चौधरी, स्थानीय  जनप्रतिनिधियों, गणमान्य नागरिकों और आमजनों ने भी भंडारा प्रसाद ग्रहण किया।

CG News:मुख्यमंत्री गुरु पूर्णिमा के अवसर पर रायगढ़ जिले के ग्राम बनोरा स्थित अघोर गुरु पीठ में गुरु दर्शन के लिए पहुंचे

मुख्यमंत्री विष्णु देव साय आज गुरु पूर्णिमा के अवसर पर रायगढ़ प्रवास के दौरान ग्राम बनोरा स्थित अघोर गुरु पीठ में गुरु दर्शन के लिए पहुंचे। उन्होंने गुरु पीठ आश्रम के उपासना स्थल पर अघोरेश्वर अवधूत भगवान राम जी की प्रतिमा के दर्शन कर प्रदेश की सुख, समृद्धि और खुशहाली की कामना की। उन्होंने आश्रम में अघोरेश्वर अवधूत भगवान राम जी के प्रिय शिष्य प्रियदर्शी भगवान राम जी के दर्शन भी किए और मार्गदर्शन लिए। इसके साथ ही इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री विष्णुदेव साय ने परिसर में करंज का पौधा , वित्त मंत्री श्री ओ. पी. चौधरी ने नीम का पौधा तथा पूर्व विधायक श्री  विजय अग्रवाल सहित अन्य जनप्रतिनिधियों द्वारा भी पौधरोपण किया गया। आध्यात्मिक मूल्यों एवं संस्कारों की पाठशाला के रूप में अघोर गुरु पीठ ब्रह्मनिष्ठालय बनोरा का नाम विख्यात है। इस अवसर पर अनेक जनप्रतिनिधि, कलेक्टर श्री कार्तिकेय गोयल सहित गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। छत्तीसगढ़ में अघोर पंथ का बीजारोपण करने वाले पूज्य अघोरेश्वर के शिष्य बाबा प्रियदर्शी राम जी के कर कमलों से तीन दशक पहले रायगढ़ के पूर्वांचल स्थित ग्राम बनोरा में इस ट्रस्ट की नींव रखी गई तब से लेकर आज तक यह ट्रस्ट राष्ट्र निर्माण में अपनी अहम भूमिका निभा रहा है। आध्यात्मिक मूल्यों एवं संस्कारों को बढ़ावा देने के लिए अघोर गुरु पीठ ट्रस्ट बनोरा की स्थापना तीन दशक पहले की गई। अघोरेश्वर महाप्रभु ने समाज के विकास की अवधारणाओं का सूत्रपात किया लेकिन इस दिशा में बहुत से अधूरे कार्यों को पूरा करने अघोरेश्वर अवधूत  भगवान राम जी के प्रियतम शिष्य बाबा प्रियदर्शी राम जी ने बनोरा से जुड़ी अन्य शाखाओं का शिवरीनारायण, डभरा, चिरमिरी, अंबिकापुर सहित अन्य प्रांतों में भी विस्तार किया। बनोरा से जुड़ी सभी शाखाओं में मानव सेवी गतिविधियां निरंतर संचालित हो रही हैं। बनोरा ट्रस्ट से जुड़ी सभी शाखाएं आसपास क्षेत्र के मौजूद जरूरतमंद और बेसहारा लोगों को जीवन की मूलभूत आवश्यकता शिक्षा, चिकित्सा या आध्यात्मिक मूल्यों की शिक्षा देकर समाज कल्याण के लिए क्षेत्र में अहम भूमिका निभा रही है।