Thelokjan

site logo

भारत में बढ़ती आय असमानता के कारण !

उत्तर प्रदेश | हाल के वर्षों में, भारत में आय असमानता एक बढ़ती हुई चिंता बन गई है। दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक होने के बावजूद, आबादी का एक बड़ा हिस्सा अभी भी गरीबी में जी रहा है और अमीर और गरीब के बीच की खाई चौड़ी होती जा रही है। संपत्ति वितरण के मामले में भारत सबसे असमान देशों में से एक है। शीर्ष 1% आबादी देश की कुल संपत्ति के 40% से अधिक को नियंत्रित करती है, जबकि समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, नीचे की आधी आबादी के पास केवल 3% संपत्ति है। राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय (एनएसएसओ) के नवीनतम आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले दशक में भारत में आय असमानता में काफी वृद्धि हुई है। समान अवसरों की कमी और वैश्वीकरण के प्रभाव के अलावा, सरकारी नीतियों की विफलता भी भारत में आय असमानता में योगदान करती है।

सरकार उन नीतियों को लागू करने में विफल रही है जो अमीरों और गरीबों के बीच की खाई को कम कर सकती हैं। उदाहरण के लिए, महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) जैसे कार्यक्रमों के कार्यान्वयन के बावजूद, जिसका उद्देश्य ग्रामीण गरीबों के लिए काम के अवसर प्रदान करना है, ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के बीच आय असमानता में वृद्धि जारी है। इसके अलावा, सरकार उन नीतियों को लागू करने में विफल रही है जो गरीबी के मूल कारणों को दूर कर सकती हैं, जैसे कि शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और रोजगार के अवसरों की कमी। भारत में बढ़ती आय असमानता के प्राथमिक कारणों में से एक संसाधनों और अवसरों का असमान वितरण है।

देश की एक विशाल आबादी है, और उपलब्ध सीमित संसाधन और अवसर समान रूप से वितरित नहीं हैं, जिसके परिणामस्वरूप कुछ व्यक्तियों और समूहों को देश की संपत्ति और आय का एक महत्वपूर्ण हिस्सा मिल रहा है। उदाहरण के लिए, केवल कुछ व्यक्तियों और समूहों के पास गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और नौकरी के अवसर उपलब्ध हैं, जबकि अधिकांश आबादी इन अवसरों से बाहर है। इसने अमीरों और वंचितों के बीच एक महत्वपूर्ण आय अंतर पैदा कर दिया है। आय असमानता में योगदान देने वाला एक अन्य कारक वैश्वीकरण का प्रभाव है। वैश्वीकरण ने बहुराष्ट्रीय निगमों का विकास किया है, जो अक्सर भारत सहित विकासशील देशों में श्रमिकों को कम वेतन देते हैं। इन कंपनियों के कर्मचारी अक्सर खराब परिस्थितियों में काम करते हैं और उन्हें पर्याप्त मुआवजा नहीं मिलता है, जिससे धन का असमान वितरण होता है।

इसके अलावा, वैश्वीकरण ने औपचारिक क्षेत्र में नौकरियों की संख्या में कमी की है, जो अक्सर उच्च वेतन का भुगतान करते हैं, क्योंकि कई कंपनियां कम वेतन की तलाश में अनौपचारिक क्षेत्र में चली गई हैं। भारत में बढ़ती आय असमानता का एक अन्य कारण प्रगतिशील कर नीतियों का अभाव है। देश की कर प्रणाली प्रतिगामी है, जिसका अर्थ है कि कर का बोझ असमान रूप से गरीब और मध्यम वर्ग पर पड़ता है, जबकि अमीर और अमीर कर से बचने और कर छूट का आनंद लेने में सक्षम हैं। इसका परिणाम यह हुआ है कि अमीर और अमीर देश के धन और आय के बड़े हिस्से का आनंद ले रहे हैं, जबकि गरीब और मध्यम वर्ग को अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। एक प्रगतिशील कर प्रणाली की अनुपस्थिति के परिणामस्वरूप अधिकांश आबादी के लिए स्वास्थ्य सेवा और शिक्षा जैसी सार्वजनिक वस्तुओं और सेवाओं की कमी हुई है। बढ़ती आय असमानता में भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद का भी प्रमुख योगदान है।

देश के राजनीतिक और आर्थिक अभिजात वर्ग के भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद के परिणामस्वरूप कुछ व्यक्तियों और समूहों को देश के धन और आय का अनुपातहीन हिस्सा मिल रहा है, जबकि अधिकांश आबादी इन लाभों से बाहर रहती है। देश के राजनीतिक और आर्थिक अभिजात वर्ग के भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद के परिणामस्वरूप निष्पक्ष और पारदर्शी नीतियों और विनियमों का अभाव भी हुआ है, जिसने देश में संसाधनों और अवसरों के असमान वितरण में योगदान दिया है। आय असमानता के मुद्दे को हल करने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि देश के राजनीतिक और आर्थिक अभिजात वर्ग समानता औरसमावेश को बढ़ावा देने वाली नीतियों और नियमों को लागू करें, और यह सुनिश्चित करें कि आर्थिक विकास के लाभ सभी नागरिकों के बीच उचित और समान रूप से साझा किए जाएं।

भारत में वर्तमान कर प्रणाली अमीरों के पक्ष में है, जिसमें शीर्ष 1% आबादी कुल आयकर का केवल 3% भुगतान करती है। इसने एक ऐसी स्थिति पैदा कर दी है जहां अमीर और अमीर हो गए हैं जबकि गरीब पीछे रह गए हैं। बढ़ती हुई आय असमानता का समग्र रूप से अर्थव्यवस्था और समाज पर व्यापक प्रभाव पड़ता है। शोध से पता चला है कि आय असमानता के उच्च स्तर से सामाजिक और राजनीतिक अशांति हो सकती है, आर्थिक विकास में कमी आ सकती है और गरीबों के लिए आवश्यक सेवाओं तक पहुंच कम हो सकती है। भारत सरकार को इस बढ़ती हुई समस्या के समाधान के लिए तत्काल कदम उठाने चाहिए।

इसमें प्रगतिशील कराधान को लागू करना, ग्रामीण विकास में निवेश करना, सभी को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा प्रदान करना और रोजगार के अधिक अवसर पैदा करना शामिल है। केवल आय असमानता के मूल कारणों को संबोधित करके ही हमसभी के लिए अधिक न्यायसंगत और न्यायपूर्ण समाज बना सकते हैं।

अंत में, भारत में बढ़ती आय असमानता एक बड़ी चिंता का विषयहै जिसे तत्काल संबोधित करने की आवश्यकता है। ऐसा करने में विफल रहने से भविष्य में और अधिक सामाजिक और आर्थिक समस्याएं पैदा होंगी। यह सरकार के लिए सार्थक कार्रवाई करने और यह सुनिश्चित करने का समय है कि आर्थिक विकास का लाभ आबादी के सभी वर्गों द्वारा साझा किया जाए| अंत में, आय असमानता एक जटिल मुद्दा है, जिसके कई कारण और निहितार्थ है|

सरकार को सभी के लिए समान अवसर प्रदान करने के लिए काम करना चाहिए, गरीबी के मूल कारणों को दूर करने वाली नीतियों को लागू करना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि बहुराष्ट्रीय निगम अपने कर्मचारियों को उचित वेतन दें। इसके अतिरिक्त, निजी क्षेत्र को भी समान अवसरों को बढ़ावा देकर और ग्रामीण क्षेत्रों के विकास में निवेश करके आय असमानता को कम करने में भूमिका निभानी चाहिए। केवल इन मुद्दों को संबोधित करके ही भारत धन का अधिक समान वितरण प्राप्त कर सकता है और अपने सभी नागरिकों के लिए एक स्थायी और समावेशी अर्थव्यवस्था बना सकता है|

लेख द्वारा राकेश गुप्ता 

Must Read

Latest News

वेडिंग डेस्टिनेशन से जुड़े सुझाव पर अमल किया जायेगा- मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में बुधवार को कैम्प कार्यालय सभागार में डेस्टिनेशन वेडिंग पर उत्तरी भारत के प्रमुख वेडिंग प्लानर्स के साथ वर्चुअल

Uttrakhand: सीमान्त इलाके के लाभार्थियों को मिली घर की चाबी और चेक

चमोली। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को जनपद चमोली के पुलिस मैदान गोपेश्वर में आयोजित ‘‘लाभार्थी सम्मान समारोह’’ में प्रतिभाग करते हुए ₹ 229.3 करोड़

पहली बार मात्र 9 माह में किसी आयोग और बोर्ड ने पूरी की भर्ती प्रक्रिया: सीएम योगी

लखनऊ: योगी सरकार की निष्पक्ष एवं पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया लगातार जारी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मिशन रोजगार के तहत अब तक साढ़े 6 लाख

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने चमोली जिले में चुनाव तैयारियों का लिया जायजा

देहरादून। जनपद में आगामी लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2024 की तैयारियां जोरों पर है। चुनाव को स्वतंत्र, निष्पक्ष और पारदर्शी रूप से संपादित कराए जाने को लेकर मुख्य

रामलला आ गए हैं और अपराधियों का राम नाम सत्य भी हो गया है : योगी आदित्यनाथ

लखनऊ,  हमारा अन्नदाता किसान जब आपस में मिलता है तो राम-राम कहता है। आज अयोध्या में रामलला भी आ गए हैं और प्रदेश के अपराधियों