Thelokjan

site logo

त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में मतदाताओं ने भाजपा पर जताया भरोसा

लखनऊ | त्रिपुरा की जनता ने कम्युनिस्ट और कांग्रेस को दरकिनार कर फिर से कमल खिला दिया। 2023 विधानसभा चुनाव में राज्य की 60 में से 32 सीटों पर भगवा लहराया। एक सीट सहयोगी दल आईपीएफटी को मिली। पीएम नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में इस चुनावी रण में पहुंचे उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ की अपील को मतदाताओं ने वोट के रूप में परिवर्तित किया। योगी आदित्यनाथ ने त्रिपुरा की 6 सीटों पर प्रचार किया था, इन सभी सीटों को मतदाताओं ने भाजपा की झोली में डाल दिया। त्रिपुरा में 60 सीटों पर 16 फरवरी को वोट पड़े थे।

2 दिन में 6 सीटों पर किया था प्रचार, रैलियों में खड़ा था बुलडोजर
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-23 की व्यस्तताओं में से भी समय निकालकर दो दिवसीय दौरे पर त्रिपुरा गए थे। यहां उन्होंने छह सीटों पर प्रचार किया था। वहां का आमजन योगी आदित्यनाथ का बेसब्री से इंतजार कर रहा था। जब योगी आदित्यनाथ वहां पहुंचे तो पूर्वोत्तर राज्यों में भी उनके बुलडोजर रैलियों में खड़े दिखे।

त्रिपुरा में कम्युनिस्ट राज समाप्त कराने में योगी की भूमिका अग्रणी
भारतीय जनता पार्टी ने 2018 विधानसभा चुनाव में पहली बार जीत हासिल करते हुए सरकार बनाई। उस वक्त भी यह चर्चा आम रही कि लगभग ढाई दशक से राज कर रहे कम्युनिस्ट की राजनीति पर विराम लगाने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ-साथ योगी आदित्यनाथ की भी भूमिका रही। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपीठाधीश्वर भी हैं। यह नाथ संप्रदाय की अग्रणी पीठ है। यहां नाथ संप्रदाय की आस्था से जुड़े लोगों की संख्या कुल आबादी की लगभग आधी के आसपास है। ऐसे में योगी आदित्यनाथ का प्रचार में उतरना भाजपा के लिए काफी कारगर रहा। वहीं इस बार योगी आदित्यनाथ ने दूसरे दिन धालेश्वर स्थित महायोगी गुरु गोरक्षनाथ मंदिर में शीश झुकाकर पूजन अर्चन किया था।

योगी आदित्यनाथ ने इन सीटों पर किया था प्रचार
सीट प्रत्याशी जीत का अंतर
बागबासा जादब लाल नाथ – 1461
कल्याणपुर-प्रमोद नगर पिनाकी दास चौधरी – 6613
टाउन बारडोवाली-प्रो. डॉ. माणिक साहा – 1257
फटीकराय-सुग्धांशु दास – 5112
सूर्यमणि नगर- राम प्रसाद पाल – 1908
मजलिशपुर- सुशांत चौधरी – 5172

Must Read

Latest News

2017 से पहले जिन विद्यालयों में बच्चे आने से डरते थे, 6 वर्ष में वहां 55 से 60 लाख अतिरिक्त बच्चों की बढ़ी है संख्याः सीएम योगी

लखनऊ। 2017 से पहले बेसिक शिक्षा स्कूलों में बच्चे आने से डरते थे, लोगों में उत्साह नहीं था। स्कूलों में पेड़ों की जगह झाड़ियां जमा

फिजा के सदस्यों को पूरे यूपी के फिजियोथिरेपिस्ट देंगे मुफ्त परामर्श

द इंडियन एसोसिएशन ऑफ फिजियोथिरेपी और फेडरेशन ऑफ इंडियन जर्नलिस्ट्स एंड एक्टिविस्ट्स (फिजा) के संयुक्त तत्वावधान में रविवार को साकेत नगर स्थित एक होटल में

उत्तर प्रदेश- AI के जरिए बेसिक के बच्चे सीख रहे कविताएं एवं पहाड़े, शिवेंद्र ने तैयार किए AI शिक्षक

हरदोई। टेक्नोलॉजी जैसे जैसे एडवांस होती जा रही है, वैसे वैसे लोग भी इसका जमकर फायदा उठा रहे है। जहां पहले सरकारी स्कूलों की शिक्षा