Thelokjan

site logo

मध्य प्रदेश में प्रियंका गाँधी ने शुरू किया चुनावी अभियान, नर्मदा नदी पर पूजा से हुआ आरम्भ

MP | कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा सोमवार, 12 जून को 2023 को मध्यप्रदेश पहुंचीं अपने चुनावी अभियान की शुरुवात की। इसको मध्यप्रदेश में कांग्रेस के महा अभियान की शुरुआत माना जा रहा है। बताते चलें कि, उन्होंने यहां नर्मदा नदी के तट पर पहुंचकर पूरे विधि विधान के साथ पूजा अर्चना और आरती की। देखिए तस्वीरें।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी सोमवार, 12 जून 2023 को मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के प्रचार अभियान का श्रीगणेश करने पहुंची। मध्यप्रदेश के जबलपुर में उन्होंने नर्मदा नदी के तट पर पहुंचकर पूरे विधि विधान के साथ पूजा अर्चना और आरती की।

इस मौके पर उनके साथ कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ, सांसद विवेक तंखा सहित तमाम अन्य नेता मौजूद रहे। गांधी को स्थानीय विधायक तरुण भनोट ने भगवान गणेश की मूर्ति भेंट की और अन्य नेताओं ने नर्मदा को स्वच्छ रखने का संकल्प लिया।

प्रियंका गांधी ने आम लोगों से भी मुलाकात की। इसके बाद वो भंवरताल पार्क में गोंड रानी वीरांगना दुर्गावती की प्रतिमा पर माल्यार्पण के साथ ही आम सभा को संबोधित करेंगी। इस सभा में पीसीसी चीफ कमलनाथ और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के साथ राज्य के तमाम आला नेता शामिल होंगे।

कांग्रेस महासचिव ने कांग्रेस मध्यप्रदेश के कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। शनिवार को जबलपुर में शिवराज सिंह चौहान लाडली बहनों के लिए अपनी 1000 रुपये वाली स्कीम की पहली किस्त जारी करने के साथ यह घोषणा कर गए हैं कि, इसे बढ़ाकर 3000 रुपये महीना कर दिया जाएगा।

अब प्रियंका गांधी के सामने चुनौती है कि वह 15 सौ रुपए महीने वाली कांग्रेस की नारी सम्मान योजना से कैसे सीएम शिवराज के इस दांव को काउंटर कर पाएंगी।

Must Read

Latest News

मुख्यमंत्री ने कृषि विभाग में सहायक लेखाकार के पद पर चयनित 67 अभ्यर्थियों को दिए नियुक्ति पत्र, बोल- उत्तराखंड को बनाएं सर्वश्रेष्ठ राज्य

 उत्तराखंड। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास परिसर में आयोजित नियुक्ति पत्र वितरण समारोह में लोक सेवा आयोग के माध्यम से कृषि विभाग

Uniform Civil Code: उत्तराखंड में होगा ऐतिहासिक काम…कई दशक बाद धरातल पर उतरेगा यूसीसी, जानें अब तक की कहानी

कई दशक बाद यूसीसी धरातल पर उतरेगी। समान नागरिक संहिता की कानूनी जंग लड़ने वाले अधिवक्ता अश्वनी उपाध्याय ने कहना है कि उत्तराखंड में यह